यूपी न्यूज़ : बंदरों ने खाया 35 लाख रुपये का.. , 6 लोगों पर होगी कार्यवाही।


न्यूज़ अब तक आपके साथ
देश प्रदेश का सबसे बड़ा न्यूज़ नेटवर्क बनाने का सतत प्रयास जारी।

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में भ्रष्टाचार का एक नया और अनोखा मामला सामने आया है, यहां छेरत स्थित साथा चीनी मिल में करीब 35 लाख रुपये की चीनी को बंदरों ने हज़म कर लिया ऐसा अफसरों का कहना है। बता दें कि यह खुलासा द किसान सहकारी चीनी मिल्स लिमिटेड की ऑडिट रिपोर्ट में हुआ है। इस मामले में प्रबंधक, लेखाधिकारी सहित मिल के 6 अधिकारियों को दोषी पाया गया है,जिसके बाद अब उनसे ही धनराशि की रिकवरी करने की तैयारी की जा रही है।
जानकारी के अनुसार, द किसान सहकारी चीनी मिल लिमिटेड का ऑडिट जिला लेखा परीक्षा अधिकारी, सहकारी समितियां एवं पंचायत लेखा परीक्षा द्वारा पिछले दिनों किया गया था, ऑडिट रिपोर्ट में करीब 35 लाख रुपये की चीनी को बंदरों के द्वारा खाने और बारिश में बर्बाद होने की बात सामने आई है। इससे यह प्रतीत होता है कि यहां चीनी में भ्रष्टाचार किया गया है।
जानकारी के अनुसार इस मामले में प्रबंधक राहुल यादव, मुख्य लेखाधिकारी ओमप्रकाश, प्रबंधक रसायनविद एमके शर्मा, लेखाकार महीपाल सिंह, प्रभारी सुरक्षा अधिकारी दलवीर सिंह, गोदाम कीपर गुलाब सिंह को उत्तरदायी माना गया है। उनके खिलाफ गन्ना आयुक्त उपनिदेशक चीनी मिल संघ को रिपोर्ट भेजी गई है, 35 लाख रुपये की रिकवरी किए जाने की संस्तुति की गई है.
वहीं इस पूरे मामले पर चीनी मिल के प्रभारी जनरल मैनेजर एमके शर्मा ने बताया कि 35 लाख रुपये की चीनी का आकलन व्हाइट शुगर के आधार पर किया गया है. यहां पीली चीनी, जो कम रेट पर मिलती है, उसमें गड़बड़ी का मामला है। यह करीब 25 साल पुराना केस है पूर्व में चीनी मिल का वेयरहाउस दूसरी जगह था, जहां से शिफ्टिंग हुई, तो गोदाम कीपर की लापरवाही के कारण माल का आकलन नहीं किया गया, इसी वजह से अंतर देखने को मिल रहा है, हर साल इसका वैरीफिकेशन होता रहा है, किसी ने भी मौके पर जाकर जांच करने की जहमत नहीं उठाई, अगर जांच की होती तो ये दिन देखने को न मिलता. गोदाम कीपर ने कभी भी माल का आकलन नहीं किया और न ही मैनेजमेंट को बताया. उन्होंने कहा कि यह सच है कि एकदम से चीनी कहीं नहीं जा सकती, ये धीरे-धीरे गई है, तभी अंतर आ रहा है. इस मामले में विभागीय जांच हो चुकी है और सभी रिपोर्ट व बयान मिल के जीएम को दे दिए हैं.
इस पूरे मामले पर भारतीय किसान यूनियन भानू के प्रदेश महासचिव एवं चीनी मिल संघर्ष समिति के पदाधिकारी शैलेन्द्र पाल सिंह ने कहा है कि चीनी मिल में भ्रष्टाचार का मामला सामने आया है, यहां 35 लाख रुप्ये की चीनी को बंदरों के द्वारा खा जाने की बात कही जा रही है, इससे प्रतीत होता है कि यहां बड़ा घोटाला हुआ है। इसमें जिलाधिकारी से मुलाकात कर कार्रवाई किए जाने की मांग की जाएगी।


-

न्यूज़ एवं विज्ञापन के लिए हमें संपर्क करें.*

और नया पुराने

Edited by- न्यूज़ अब तक


Youtube Facebook instagram Twitter-x image

Powerd by

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
ads

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

نموذج الاتصال